Wednesday, 30 March 2016

This country needs thousands of Kanhaiyas ------ Dr. K. Narayana



Narayana Kankanala in New Delhi, India
Yesterday at 7:42am · 
Shame on you!

Dr. K. Narayana,
National Secretary, Communist Party of India

“I feel ashamed of you now, after all these years of admiration. What is your status and what is Kanhaiya’s level? Why did you go to the airport to receive him?”, complains a well wisher of mine.

“A person who had praised deshadrohi Afzal Guru, is getting your support! Shame on you!”, another friend of mine expresses his ire.

“You had followed Kanhaiya to the Central University. Did you ever realize what impression it will create?”, one more Leftist friend enquires.

I concede that I am facing criticism from some quarters like these three typical ones I had listed above. I am not talking about the numerous praises and expressions of support I had received. I will take cognizance of criticism rather than words of support. Expressions of support might elate you and help you to move forward, but their role is limited to that. It is only the criticism that helps us to introspect.

Anti-National

The episode of Kanhaiya had emerged with the events that took place at JNU, Delhi between February 9th to 11th this year. Along with Kanhaiya, the Students Union President of JNU, two other students were also charged under Sedition and arrested.

We are all aware of these events that had led to the arrest of Kanhaiya Kumar, since February 9th. The seven video tapes, in which he had purportedly shouted anti-India slogans, which were widely publicized by some channels, have been sent to a Lab in Hyderabad for analysis. It was established that at least two videos, widely publicized by some channels had been found to be doctored. It is these morphed videos that were used as evidence against Kanhaiya, and he was charged on the basis of these videos. It was also widely publicized by some other channels explaining technically how these videos were morphed. Official investigations by various agencies had established that Knahaiya had neither shouted anti-India slogans, nor had he any role in these events. Legal experts the world over, eminent and veteran journalists and many top politicians had supported the fact that Kanhaiya is innocent and that he had done no wrong. Should Kanhaiya walk on fire to once again prove that he is innocent? I am sure even that will not satisfy the saffron brigade, who are after his blood.

I have full confidence in the fact that this young man, whose age is less than half of my political life, is innocent and if proven otherwise, I declare that I will say goodbye to my political life. I am saying this from the depths of my heart.

Before entering Parliament for the first time, Narendra Modi had kissed the earth. I would like to ask him, will he be prepared to rub his nose to the ground, now that he and his party are sure to be proven wrong? Are they prepared to take this challenge?

Giving me unsolicited advice, that I have a high position in politics and that I should not stoop down to expressing support to Kanhaiya is a blatant attempt to isolate Kanhaiya and play with his life. Their praise of me is in fact subversion.

Irrespective of their age, if anyone comes forward to fight against injustice and for a better India, I will extend my support to that person. Why the hell are you people so scared of him? Is it because the fearless young man is challenging Modi one-to-one. Youth is staying away from politics and even honest and hardworking young cadre is not able to climb up the political ladder. It is only children of the rich and powerful, along with top industrialists who are occupying seats in the Parliament and in other elected houses. And politics for them is a part of their business, a tool to promote their interests. And Parliament’s purpose is narrowed down to serve the interests of rich and powerful. More than 80% of the acts proposed to help the downtrodden and poor farmers are languishing and not able to see the light of the day. Women, who comprise 50% of the population, could not get the 33% reservation. The bill is pending forever.

In this context, it is people such a Lalit Modi and Vijay Mallya, who get all the political support to cheat this country and its people, while no one in power comes out honestly to support a forthright young men like Kanhaiya. I feel proud of this young man and I don’t hesitate to extend whatever help he needs. This country needs thousands of Kanhaiyas. False pride should not come in the way of supporting the truth.

Kanhaiya who was under police custody, was attacked in full public view, before TV cameras by BJP goons, wearing black lawyers’ coats. Even Legal experts deputed by the Supreme Court were not spared. Police remand and all the official machinery were mute witnesses to this blatant violation of the law of this land. Students are now afraid of going to their class rooms and an atmosphere of fear was created. Hyderabad Central University is a glaring example of this. It has been converted in to a concentration camp, with the students deprived of food, water, electricity and communication facilities. BJP had threatened that they will block Kanhaiya from entering Hyderabad and Vijayawada. The moment he landed in Hyderabad, every movement of his is fraught with danger. He was prevented from meeting Rohit Vemula’s mother. Goons on motor bikes tried to pelt stones on the car in which Kanhaiya was traveling. At the closed gates of University of Hyderabad, BJP goons had blocked his path and tried to disrupt his meeting he was supposed to address. While he was addressing a meeting at Sundarayya Vijnana Kendram in Hyderabad, it was again BJP goons who tried to throw chappals though unsuccessfully on Kanhaiya in the full presence of elderly citizens and the media.

Though permission was granted by the authorities to hold a meeting at Siddhartha College grounds, Venkayya Naidu’s henchmen had seen to it the permission is withdrawn. We had to shift the venues to a private function hall. Two hours before Kanhaiya was supposed to arrive, BJP cadres tries to enter the hall with the intention of creating trouble. They had brought in goons from far off places to enact this drama. I got a call from Delhi, that BJP is planning organize an attack on Kanhaiya by some BJP women. By 4.30 pm, these women were already there in the meeting hall and got in to an argument with the Red Shirt volunteers. Some BJP goons from other districts, who could not be immediately identified by the Vijayawada local comrades, sat in the front row and they tried to throw chappals at Kanhaiya as he rose to speak. Of course, they did not succeed as the Left cadre was alert. We had put up Kanhaiya at a hotel for the night, and even there, the BJP goons went and threatened the hotel management. This all powerful Government, with stalwarts such as Modi and Venkayya – seem to scared of this little boy, Kanhaiya. Why so much snooping and subversion on him? Are you scared stiff that if he speaks, you will be exposed? Disrupting the meeting of rival parties does not exactly fit in to democratic culture.

The Constitution had guaranteed the right to assembly and expression of dissenting opinions for all citizens. If you try to snatch it away from us by misuse of power, the anger of the people will explode on your face.

Your blatant attempts at creating a frenzy of politically motivated false nationalism and your projection of ‘Bharat Mata” to symbolize the interests of the rich is sure to boomerang on you. This whole subversive activity of bringing in Hindutva fascism is being watched with anger by the people and they will teach you a bitter lesson.

With this subversive plan, these Saffron gangs want to thwart the rising tide of opposition against them, by silencing Kanhaiya. At this critical juncture, should we remain mute spectators and allow them to carry on with their nefarious plan? When the police and administration had failed to protect Kanhaiya in the haloed premises of the court, who will trust this government to protect the life of Kanhaiya? Only the committed Leftist movement has to take care of him, at this critical juncture.

Should Kanhaiya be left alone to fend for himself? Is it a sin to protect and help him? You are saying that we will get painted in the same color as Kanhaiya. I say that Kanhaiya is always on our side – he is a committed Leftist cadre. By keeping him away from us, we will be throwing him to the Saffrom wolves. Is that what you want, by cautioning me?

When the movement against BJP mis-rule is picking up, we should put all our efforts by encouraging the newly emerging united student-youth movement. Any hesitation at this stage will prove suicidal to the Left in this country.

28-03-2016
Hyderabad

https://www.facebook.com/photo.php?fbid=1193755193975879&set=a.297075856977155.79057.100000242288451&type=3

विरोधियों को राष्ट्रविरोधी घोषित करने की मुहिम ------ इरफान हबीब

(लेखक इतिहासकार हैं)
इसका असर क्या होगा, यह किस हद तक जाएगा, यह कहना तो बड़ा मुश्किल है. भारत बड़ा देश है. सिर्फ आरएसएस ही भारत नहीं है. देश की सारी जनता वैसी ही नहीं है जैसी भाजपा समझती है. उन्हें मात्र 31 प्रतिशत वोट मिले हैं. लेकिन जो मौका मिला है, वे समझते हैं कि इसका फायदा उठाकर मनमानी कर लें. 

*****इस पूरी बहस के सहारे कोशिश की जा रही है कि भाजपा और आरएसएस के खिलाफ जो भी लोग हैं उन्हें राष्ट्रविरोधी घोषित किया जाए. ये मुहिम चला रहे हैं. हर जगह जनता में बंटवारे की कोशिश की जा रही है. अगर यह तर्क है कि देश को बचाने के लिए यह राष्ट्रवादी अभियान चलाया जा रहा है तो देश पर कौन सा ऐसा खतरा आ गया है जिससे वे बचा रहे हैं? राष्ट्र काफी पुराना शब्द है, उसका मतलब एक देश से होता है. अंग्रेजी शब्द जो नेशन है उसके मायने भी बदलते रहे हैं, लेकिन आखिर में उसे समझा जाता है कि वह एक ऐसा मुल्क है जिसके लोग चेतना संपन्न हों, उन्हें यह एहसास हो कि हम इस मुल्क के हैं और हमारी हुकूमत होनी चाहिए. वह राष्ट्र बनता है. राष्ट्र कोई ऐसी चीज नहीं है कि वह कोई जमीन का टुकड़ा हो, या कोई भौगोलिक देश हो, लोग होते हैं जो राष्ट्र निर्मित करते हैं.

यहां तो यह समझा जाता है कि हदबंदी कर रखी है. किसी ने कह दिया कि उस देश से आप सुलह कर लो, कुछ उन्हें दे दो, कुछ उनसे ले लो, जो उनके पास है उसे रहने दो, जो हमारे पास है वो हमारे पास रहे तो यह कोई गैर-राष्ट्रीयतावाद है. असली चीज तो यह है कि आप देश के लोगों से प्रेम करते हैं कि नहीं करते हैं. 1947 से पहले तो वही लोग देशभक्त कहे जा सकते थे जो अंग्रेजों के विरोधी हों. उसमें तो आरएसएस और हिंदू महासभा ने कोई खास काम नहीं किया. आरएसएस ने तो बिल्कुल नहीं. 1947 तक इन्होंने अंग्रेजों के खिलाफ कोई मुहिम नहीं चलाई. मुसलमानों का विरोध करते रहे और कांग्रेस का विरोध करते रहे. यह समझ में नहीं आता कि ये कैसी देशभक्ति है! जब देश को देशभक्ति की जरूरत थी तब तो आप मैदान छोड़कर भाग खड़े हुए.

आजादी के आंदोलन में आरएसएस की कोई भूमिका नहीं रही. इन्होंने उसे बार-बार तोड़ने की कोशिश की. टू नेशन थ्योरी की बात करते थे. गोलवलकर ने अपनी किताब में ‘वी आर आवर नेशनहुड डिफाइंड’ में यही लिखा है कि सिर्फ हिंदू यहां के नागरिक होंगे, बाकी नहीं होंगे. यह 1937 में लिखी हुई किताब है, जिसे ये अपना बाइबिल मानते हैं. इस तरह की बात से तो अंग्रेजों को लाभ ही होगा. पूरे राष्ट्रीय आंदोलन को तो इन्होंने नुकसान ही पहुंचाया है.

आजादी के बाद अगर आप सरकार के साथ आरएसएस का पत्र व्यवहार देखें तो ये तिरंगा झंडा मानने को तैयार नहीं थे. तब भारत सरकार ने कहा, तभी आप जेल से छोड़े जाएंगे जब झंडा स्वीकार करेंगे. उस वक्त तक ये संविधान नहीं बना था. उस समय जो सरकार थी, जिसने कानून बनाया था. उसके बाद 1950 में हमारा संविधान बना, उसको भी मानने को तैयार नहीं थे. उसी तरह झंडे को मानने को तैयार नहीं थे. इस बात के कागजात मौजूद हैं कि इन्होंने देश के प्रतीकों को मानने से इनकार किया था. लेकिन जब बताया गया कि अगर आप नहीं मानेंगे तो रिहा भी नहीं होंगे. तब इन्होंने उस पर सहमति जताई.

अब बुद्धिजीवियों पर हमले करके यह कोशिश की जा रही है कि वे और लोगों की आवाज बंद कर दें. जिन नारों के बहाने सरकार जेएनयू पर कार्रवाई कर रही है, वह फिजूल है. इससे मालूम पड़ता है कि आप घबरा गए हैं. कश्मीर में तो इस तरह रोज आजादी के नारे लगते हैं. इतना बड़ा देश है, ऐसे कुछ नारों से क्या फर्क पड़ता है. सरकार जो कर रही है, वह सब राष्ट्रवाद के लिए तो बिल्कुल नहीं है. क्योंकि इससे राष्ट्र को फायदा हो रहा है या और बदनाम हो रहा है? इससे हमें क्या फायदा होगा? जितना नुकसान वे कर सकते थे, वह कर चुके हैं. राष्ट्रवाद का अर्थ गुंडागर्दी तो बिल्कुल नहीं होता है.

इसका असर क्या होगा, यह किस हद तक जाएगा, यह कहना तो बड़ा मुश्किल है. भारत बड़ा देश है. सिर्फ आरएसएस ही भारत नहीं है. देश की सारी जनता वैसी ही नहीं है जैसी भाजपा समझती है. उन्हें मात्र 31 प्रतिशत वोट मिले हैं. लेकिन जो मौका मिला है, वे समझते हैं कि इसका फायदा उठाकर मनमानी कर लें. हालांकि, मुझे शक है कि यह ज्यादा वक्त तक चल पाएगा.*****
*** साभार ***http://tehelkahindi.com/opinion-of-historian-irfan-habib-on-nationalism-debate/

Friday, 25 March 2016

Why would you hold this against us?------ Preeti Raghunath , PhD Researcher , University of Hyderabad

Radhika Vemula, Rohith's mother, who was not allowed by Appa Rao and his gang to enter the university campus
to stand with the students of HCU visits one of the students who was brutally beaten up by the police for cooking food
for the students when the messes were shut down

Delhi Media, Why The Silence On UoH?

By Preeti Raghunath

25 March, 2016
Countercurrents.org


I am only voicing the concerns of many students at the University of Hyderabad (UoH/HCU). This is a delayed reaction since I did feel that perhaps we would eventually get media coverage that is worthy of the kind of situation that HCU is in. I did feel that this was a momentary lapse on the part of the otherwise Breaking-News-hungry news channels. I understand that orders prohibiting media entry into the university premises (or ‘campus’ as we so fondly call it) have been put up. However, we fail to understand what stops the media from covering/engaging with civil liberties groups and following up on developments on the legal recourse front, even as faculty, lawyers and others concerned are battling it out on our behalf?In fact, students and friends in the city of Hyderabad and other parts of the country are having to field questions about the authenticity of attacks on so many students! They do not believe it is for real! If people have to only go by the 11 words that Facebook puts up as trending news and the slant that it gives, I feel sorry for them.
This is when we look to the media in Delhi to dispel myths, rumours and provide balanced coverage for the country to read/watch, taking into account all sides of the story. We do not even expect them to approach the story in a proactive manner on behalf of unarmed students having to deal with CRPF and Rapid Action Forces on campus. To bring to your notice, the students have had to contend with at least the following:
(a) The shock of the sudden return of an unsympathetic VC and relapse of an administrative culture that chooses to terrorise than talk,
(b) The horror of being held near-hostage in hostels with absolutely no food/water/electricity/internet/provisions/access to toiletries that female students may need/some sympathy, with even food delivery vendors being sent back from the campus gate,
(c) Worries about being at the frail end of a semester that has been extremely disturbing and on-the-edge on account of having lost one of us to administrative apathy,
(d) Living in a city that is currently showing all signs of a water crisis during the upcoming summer season, with the university administration admitting that a 6-day week was followed due to shortage of water in the university area.
After the institutional murder of Rohith Vemula and the subsequent turn of events, it has been a continuous effort on the part of students to half-settle into a routine and study even as they deal with sorrow and anger that has seen no redressal yet. I would leave it to your better judgement to understand why it took time for students caught in the throes of a bad situation like this, to digest and even comprehend undisclosed political developments that are beyond their daily scheme of things. In such a situation, we look to you in the media to convey to the rest of world things that we ourselves cannot. As young idealists looking to enter the “real world”, which I’m sure as aspiring young journalists you too were at some point, we expect to be given fair treatment in terms of being represented in your daily work, viz, reporting “newsworthy” occurrences in the country. I'm sorry, but if this horrific clampdown on students and the sheer unleashing of violence by university authorities in collusion with the State is not newsworthy enough for media in Delhi, what is?
Our classmates and colleagues, room-mates and hostel-mates are languishing in the Cherlapally jail (last heard), after being carried from one police station to another as if to suggest that all of this is being staged by authorities just before a series of public holidays. The students have tried to capture and upload photos and videos for public viewing, even as they were lathi-charged, stomped upon, thrashed and abused with the choicest of words. Women students were grabbed and molested, and have had to brave filthy language and racist comments --- all of this highly unbecoming of a university campus like ours. Even if you feel the need to draw on popular caricatures that all of us indeed are either “children” or “hooligans/gundas/student politicians who do not study”, it shouldn’t stop the fourth estate in the National Capital Region from engaging with us and taking voxpopulithat represent diverse views. It also shouldn't stop the civil society in general from picking it up and talking to us about things that are assumed to be beyond our understanding or experience yet. If not now, when?
All of us here are students pursuing degrees in higher education at a prestigious central university, and most of us have had to brave difficult circumstances to reach this level of education at a public university --- a fact that the current circumstances and public judgement certainly do not allow us to take lightly. We do have opinions and world-views that result from our diverse backgrounds, experiences and understanding of the social, economic and political structures that we are all unwittingly a part of. I’m sure as citizens of a democracy and educated practitioners of a job that requires responsible and ethical functioning, you do too. Why would you hold this against us? Majority of the students in hostels hail from outside the city of Hyderabad, and have parents and family members who are extremely concerned for their safety. A lot of times, it becomes difficult for them to explain why university authorities have resorted to such measures --- something that even they await to understand. I don't think they deserve this. No student does. At least not from the vanguard of democracy.
Preeti Raghunath is a PhD Researcher in University of Hyderabad, India

Thursday, 24 March 2016

शहीदी दिवस पर भगत सिंह और उनके साथियों का लखनऊ में स्मरण ------ विजय राजबली माथुर


लखनऊ, 24 मार्च, 2016 :
कल शहीद दिवस 23 मार्च को लखनऊ में होली मनाए  जाने के कारण आज 24 मार्च को अपरान्ह भाकपा कार्यालय , 22-कैसर बाग पर एक गोष्ठी का आयोजन किया गया जिसकी अध्यक्षता कामरेड परमानंद दिवेदी ने की व संचालन किया जिलामंत्री कामरेड मोहम्मद ख़ालिक़ ने।
जिलामंत्री द्वारा गोष्ठी के उद्देश्य पर प्रकाश डालने के बाद  सर्वप्रथम  सभी कामरेड्स द्वारा शहीदों के चित्रों पर पुष्पांजली अर्पित की गई तदुपरान्त कामरेड कल्पना पांडे ने एक कविता के माध्यम से श्रद्धांजली दी।
बैंक कर्मचारी नेता कामरेड परमानंद ने शहीदों के बलिदान को स्मरण करते हुये उनके सपनों को साकार करने के लिए चुनावों में जीत हासिल करने को लक्ष्य बनाने की चाहत रखी।कामरेड आनंद तिवारी ने युवाओं को शहीदों के प्रति समर्पण और उनके कृत्यों के अनुसार सड़कों पर संघर्ष करने पर बल दिया। कामरेड रमेश सिंह ने जहां जातिवाद को समाज का कोढ़ बताते हुये इसका निर्मूलन किए जाने की आवश्यकता पर बल दिया वहीं कामरेड अकरम ने बढ़ती सांप्रदायिकता का ज़िक्र करते हुये इसके विरुद्ध भगत सिंह जी के विचारों को अपनाए जाने पर बल दिया।
वयोवृद्ध इप्टा कलाकार कामरेड मुख्तार अहमद ने आज भगत सिंह जी के विचारों को तोड़ने-मरोड़ने पर चिंता व्यक्त करते हुये सही बात जनता को समझाये जाने पर बल दिया।
 विजय माथुर ने शहीदे-आजम भगत सिंह-राजगुरु-सुखदेव का स्मरण करते हुये याद दिलाया कि,  सिक्ख होते हुये भी भगत सिंह जी का परिवार आर्यसमाजी था और 'सत्यार्थ प्रकाश' पढ़ने के उपरांत वह क्रांतिकारी बने थे। स्वामी दयानंद ने 1857 की क्रान्ति में भाग लिया था उनको अंग्रेज़ सरकार 'क्रांतिकारी सन्यासी' -REVOLUTIONARY SAINT कहती थी। ऐसे ही स्वामी दयानन्द के अनुयायी और 1917 की रूसी क्रांति से प्रभावित भगत सिंह व बटुकेश्वर दत्त को नेशनल असेंबली में बम फेंकने के  कारण  'राजद्रोह'  के आरोप में गिरफ्तार किया गया था और 23 मार्च 1931 को राजगुरु व सुखदेव के साथ फांसी दी गई थी। बटुकेश्वर दत्त को आजीवन कारावास का दंड दिया गया था। अपने मुकदमे के दौरान भगत सिंह ने अदालत को बताया था कि उनका उद्देश्य सोई हुई सरकार को जगाना तथा 'ट्रेड  डिसप्यूट एक्ट 'का विरोध करना था जो मालिकों को श्रमिकों का उत्पीड़न करने की छूट देने के लिए लाया गया था। उनका कथन था कि वह भारत ही नहीं वरन सारी दुनिया से पूंजीवादी शोषण को समाप्त करना चाहते हैं। उन्होने अदालत से कहा था बम फेंकने का उद्देश्य किसी को हताहत करना नहीं था। वस्तुतः वह बम आगरा के 'नूरी गेट' क्षेत्र में जो अब 'शहीद भगत सिंह द्वार' कहलाता है में भगत सिंह व उनके साथियों द्वारा धमाका करने के लिए ही बनाया  गया था जिसमें विस्फोटक पदार्थ नहीं रखे थे। वर्तमान केंद्र सरकार भगत सिंह के सपनों को साकार करने की मांग करने वालों को उसी 'राजद्रोह' के आरोप में गिरफ्तार कर रही है। उसका मुक़ाबला करने के लिए जनता को समझाना होगा कि वास्तव में यह सरकार अधार्मिक है  और हम कम्युनिस्ट ही सच्चे धार्मिक हैं जो सम्पूर्ण मानवता की रक्षा के लिए संघर्ष करते हैं। धर्म का अर्थ मानव शरीर व समाज को धारण करने वाले तत्वों से है ढोंग व पाखंड से नही। यह संस्कृत की 'धृति' धातु से निकला  है जिसका अर्थ ही है धारण करना। खुद को  'नास्तिक' कह के सांप्रदायिक शक्तियों को बल देने की अपेक्षा हमें अपनी प्रचार शैली बदल कर जनता के बीच जाना होगा तभी लक्ष्य हासिल कर सकेंगे और सत्ता पर पकड़ बना कर व्यवस्था परिवर्तन कर सकेंगे।

जिलामंत्री   कामरेड मोहम्मद ख़ालिक़ ने कहा कि, तमाम शहीदों के बीच केवल भगत सिंह को ही शहीद-ए - आजम कहा जाता है क्योंकि वह 23 वर्ष की अल्पायु में ही  अध्यन द्वारा इतना ज्ञान अर्जित कर चुके थे जो आज भी हमारा मार्ग-दर्शन करता है। आज उनके सपने चकनाचूर हो रहे हैं  , जनता के मंदिर विधानसभा व संसद  जनता से दूर किए जा रहे हैं। जनता को अपनी समस्या लेकर वहाँ तक पहुँचने से बल पूर्वक रोका जाता है। धरना- प्रदर्शन करने के लिए सरकार की अनुमति लेना धार्मिक उत्सव मनाने के लिए सरकारी बन्दिशों को मानना ज़रूरी है नहीं तो राजद्रोह-देशद्रोह का आरोप थोप दिया जाता है। उन्होने शहीदों के सपने साकार करने के लिए लोकतन्त्र को बचाने व सत्ता को अपने हाथ में लेने के लिए जनता से जीवंत संपर्क बनाए रखने पर बल दिया। 
अंत में अपने अध्यक्षीय सम्बोधन में कामरेड परमानंद दिवेदी ने उपस्थित कामरेड्स का आभार व्यक्त किया कि वे त्यौहारों  के बावजूद शहीदों के बलिदान दिवस पर उनको याद करने के लिए आए और उनके सपनों को पूरा करने की दिशा में अपने संकल्प की अभिव्यक्ति की।  

Wednesday, 23 March 2016

कन्हैया के विरुद्ध बाजरवादी वामपंथियों का प्रहार किसको लाभ पहुंचाने के लिए ? ------ विजय राजबली माथुर

23 मार्च 2016 को  हैदराबाद में रोहित वेमुला की माँ से AISF महासचिव के साथ कन्हैया कुमार 


******JNUSU अध्यक्ष कन्हैया कुमार AISF महासचिव सैयद वलीउल्लाह खादरी के साथ हैदराबाद यूनिवर्सिटी के दिवंगत छात्र रोहित वेमुला की माँ व परिवारीजनों से मिलने गए। उनको वहाँ यूनिवर्सिटी में जा कर आज सभा को संबोधित करना था किन्तु कल ही छात्रों पर पुलिस द्वारा बर्बर लाठी चार्ज के बाद 28 तारीख तक के लिए यूनिवर्सिटी को बंद कर दिया गया था। 
कन्हैया और साथियों ने जे एन यू में रोहित को न्याय दिलाने के लिए मुहिम चला रखी है। अपनी गिरफ्तारी से पूर्व व पश्चात भी कई बार कन्हैया ने वामपंथ (लाल ) व आंबेडकर पंथ ( नीला ) के सहयोग तथा समन्वय से साम्राज्यवादी/संप्रदायवादी शक्तियों से आज़ादी की बात उठाई है। इसीलिए उनके भाषण के वीडियोज़ में ओवरलेपिंग करके उनको झूठे आरोपों पर गिरफ्तार कराया गया व उन पर शारीरिक हमले कराये गए। उनकी हत्या के लिए इनाम घोषित कराये गए। उन पर सेना को बदनाम करने के मन गढ़ंत आरोप लगाए गए। जस्टिस वर्मा की रिपोर्ट एवं रेलमंत्री को ट्वीट किए गए समाचारों से कन्हैया द्वारा व्यक्त तथ्यों की पुष्टि ही होती है। फिर भी उनका चरित्र हनन अभियान जारी है। 
ऐसे में प्रश्न उठता है कि अति वामपंथ अथवा क्रांति के नाम पर कन्हैया विरोधी अभियान चलाने वाले आखिर किसका भला कर रहे हैं। इसे समझने के लिए 1964 के सी पी आई के विभाजन को याद करना होगा। तब पार्टी में दलित व पिछड़ा वर्ग के लोग प्रभावी होने की स्थिति में आ रहे थे अतः ब्राह्मण वादियों ने सिद्धांतों का जामा पहना कर सी पी एम का गठन करके पार्टी को विभाजित कर दिया जिससे दोनों दलों में ब्राह्मण वर्चस्व बना रहा। सी पी एम से अनेक और विभाजन हुये परिणाम स्वरूप वामपंथ जनता से और दूर हो गया। केंद्र में दक्षिण पंथी तानाशाही चाहने वाला दल सत्ता में आ गया जो पुलिस,सेना,प्रशासन और न्यायपालिका तक को प्रभावित करने को प्रयत्नशील है।   इन परिस्थितियों की भयावत: के बीच उन कन्हैया  पर सोशल मीडिया के माध्यम से प्रहार किया जा रहा है जो दक्षिण पंथ विरोधी व्यापक एकता की बात की पहल कर रहे हैं। तब मतलब साफ है कि यह एक ब्राह्मण वादी साजिश है जो दक्षिण पंथ की ही सहायता का अभियान है। 

23



*******************
फेसबुक पर प्राप्त  टिप्पणी ::

वस्तुतः आज भी मार्क्स की जय बोलते हुये मास्को/पेकिंग रिटर्ण्ड ब्राह्मण वादी कामरेड्स सामंतवादी/साम्राज्य वादी/सांप्रदायिक मानसिकता से ग्रस्त हैं परंतु विभिन्न दलों में ये ही नियंत्रक बने हुये हैं। अन्य लोगों को दबा/कुचल कर रखना इनका शगल है और विभिन्न विभाजनों के लिए ये ही जिम्मेदार हैं। इनका कहना है ओ बी सी व दलित से काम तो लो लेकिन उनको पद न दो । यह व्यवहार खुद में शोषण-उत्पीड़न ही है। कन्हैया ने सबको समान महत्व देने की बात उठाई है इसलिए दक्षिण पंथी और वामपंथी ब्राह्मण एक साथ उनका विरोध कर रहे हैं। 
हालांकि 'नौजवान भारत सभा' के कार्यालय पर भी रात को छापा डाला गया है। किन्तु दलित छात्रों जिनमें डॉ आंबेडकर के पौत्र भी शामिल हैं देशद्रोही बताया जा रहा है। 

जैसा आलोकतांत्रिक वातावरण व्याप्त हो रहा है उसमें सभी लोकतान्त्रिक लोगों को एकजुट होने की ज़रूरत है और यही प्रयास कन्हैया का है। जब लोकतन्त्र ही नहीं रहेगा तब जनता तो बस गुलाम ही होगी। इसलिए वामपंथ में घुसे आलोकतांत्रिक लोगों से सतर्क रहने की प्रबल आवश्यकता है। 

Sunday, 20 March 2016

What is going on? That Police And Rajnath Singh Must Answer ------ Aditya Nigam

5 Questions On Mysterious Sloganeers In JNU And Press Club That Police And Rajnath Singh Must Answer
March 6, 2016
http://www.indiaresists.com/delhi-police-ever-tell-masked-slogan-shouters-jnu/

Police plan Big-Brother cameras for JNU, we have learnt. A senior police official told The Telegraph that this measure would help in identifying

students who often raise anti-national slogans and stage protests. It will also help us in preventing clashes among students belonging to different ideologies – the Left, the far-Left and the ABVP.

Remember, dear citizens, the police were actually present at the event at JNU on February 9th. We will return to this point, but they don’t really need CCTV surveillance, they are physically present on JNU campus in civilian clothes, and with JNU ID.

This,  also recollect, is the very same police force that stood by while a mob attacked JNU students and faculty and assaulted Kanhaiya at Patiala House; the same police who cannot arrest the man who publicly, with name and phone number, offered a reward for killing Kanhaiya – they “booked him for defacing property”, and will “analyse the poster carefully” before deciding whether other provisions of the IPC apply.

When all the evidence is available – the name, picture and phone number of a man who issues a death threat, he cannot be booked for anything more serious than the actual pasting of the poster on walls, because “the posters have to be analysed”.

Violence unfolds before their very eyes, and the Delhi Police cannot act.

These guys need CCTV surveillance?

This entirely compliant police force, now acting as the private army of the BJP, is concerned about preventing clashes in JNU, which has never ever had violent clashes, when it cannot carry out the normal functions of a police force anywhere else in the city.

So what will a CCTV system establish that the Delhi Police don’t already know?

Consider the following facts, and do come to your own conclusions. We have.

a) Pramod Ranjan’s article in Forward Press, also posted on Kafila, shows uncanny similarities between a Panchjanya editorial of 2015 and the Delhi Police report of 2016.

In its issue dated 8 November 2015, Panchjanya, the Hindi organ of the Sangh, carried a sensational and provocative cover story titled “JNU: Darar ka gadh” (JNU: Den of Divisiveness). That is not all. The weekly took pains to inform media organizations about the cover story and requested them to take notice. In the first week of November 2015, this cover story of Panchjanya grabbed the headlines on TV channels….

The charges levelled by Panchjanya in November 2015, surprisingly, became part of an intelligence report filed in February 2016. The Panchjanya article and the report of the intelligence department have uncanny similarities. Their tone is the same, basic content is the same, charges are the same and both smack of a conspiracy to associate students’ organizations of Bahujan ideology with extremist leftist organizations. The only difference is that of language. While the language of Panchjanya has a literary touch, that of the intelligence report is dry government-speak.

On 9 February 2016, after the so-called seditious sloganeering in JNU, the Delhi Police, on the basis of the report of its intelligence wing, submitted a report to the Government of India. This report was leaked to the media by “sources in the Home Ministry”…

The list of charges in the police report is a rough translation of the ‘JNU Leela” published in Panchjanya.

So the Delhi Police cooked up its report on the basis of the Panchjanya Action Plan outlined a few months ago.

b) Leaks from media rooms now suggest that on the morning of the 9th of February (the event was that evening)  there was a buzz that “JNU mein bawaal hone wala hai” (There is going to be a ruckus at JNU today)

These rumours are confirmed by the entry of Zee into JNU one hour before the programme at the invitation of ABVP, as revealed on India Resists.

c) The police were actually present at the event. During one of Kanhaiya’s bail hearings, Justice Pratibha Rani pointedly asked why the police present at the event did not record it, and why did they have to rely on Zee TV videos, (which turned out, as we know, to have been doctored):

“Three policemen were there in civil dress. Don’t they know what it means? Why did they not record the incident? Were they not supposed to take cognizance of the issue?” asked the bench. The bench also asked why the SHO had not asked for the video footage to be recorded. “What were your men doing?”

d) We know what a couple of them were doing. One of the former members of DSU, who joined the programme on February 9th, Srirupa Bhattacharya, wrote in Sanhati about being followed home after the event, in a clear bid to threaten and intimidate:

I returned home around midnight. My friends dropped me at my door in a rented car. I was alone as usual. It began exactly 15 minutes after I had entered. Heavy intermittent steps climbing up and down the stairs. Dry leaves on the terrace crumbling under soft footsteps. My doormat heaving rhythmically with the breath of person/persons peeping underneath the door. No knock, eerie silence for 20 minutes, and then again the entire round. You might say this could have happened on any night, but I would ask you why then was it this night? The same night photos are doing rounds thanks to a group of zealots in the media. Why this attempt to mark, to intimidate, repeatedly from 12:30 am until 2:30am? To speak the truth it was a blood-curdling night.

Whatever the anti-national slogans that were shouted (Pakistan Zindabad isn’t one of them, we now know), the question is – Why did the policemen present not follow the men with their faces covered who did shout the slogans? One of the repeated attempts during interrogation of Kanhaiya, Umar and Anirban was to have them identify those men, which they were unable to do:

When asked to identify other accused in the video, the two did name few persons but the ones raising slogans were not identified. There are some masked persons in the group and some people who apparently are not from JNU,” the officer told dna.

The Delhi Government-ordered Magisterial Report said:

Many students who protested on the JNU campus on February 9 were ‘outsiders’, the DM inferred. He stated “It may be difficult to arrive conclusively whether other four students (Kanhaiya, Khalid, Anirban and Ashutosh) have shouted anti-national slogans or not but it was visible and heard beyond doubt that ‘these outsiders and possibly Kashmiri students’ were heard raising anti-national slogans. They should be identified for further investigation.”

The question, let me reiterate, is this – why did the police personnel present at the event not follow these men to find out who they were?

Did they perhaps know who they were, as they knew “bawal hone wala hai” on  the morning of the 9th? Were they perhaps, not “Kashmiri students” but people the IB and Delhi Police know well?

e) Was it the same men shouting the same slogans at Press Club, who also mysteriously cannot be identified? Why were they permitted to shout slogans and leave, in full view of police present?

Who were these outsiders, why were they not immediately grabbed and questioned? Why were the names of eight other students most of whom had nothing to do with the event produced out of a hat?

The slogans purportedly shouted, about destroying India and so on, have never been heard before at any event organized around Afzal’s execution in Delhi, and there have been several in different parts of India since the execution in 2013.

Where did these slogans suddenly come from? Who were these men?

What is going on?


Saturday, 19 March 2016

Drop Sedition Charge Against JNU Students ------ Mahesh Rathi



Mahesh Rathi


Massive People’s March to Parliament
Drop Sedition Charge Against JNU Students 
Mahesh Rathi


New Delhi: AISF, along with other student organisations, took out an impressive March to Parliament on March 15, 2016 demanding an end to the misuse of the sedition laws and an end to such laws. They demanded unconditional release of Kanhaiya Kumar, the AISF leader and president of JNUSU along with others and withdrawal of cases against them. 
It was an impressive march, in which students from different universities of the country also took part, mainly from the neighbouring states. The presence of Kanhaiya Kumar enthused and galvanised the students. They shouted slogans on ‘azadi’ from various social and educational problems. Students of JNU led by AISF and other student organizations were in large numbers.
Thousands of students began their march from the Mandi House and reached Jantar Mantar. At Jantar Mantar, the procession turned into a big meeting.
Several student leaders addressed the rally including those of AISF. Besides, writer Arundhati Roy also delivered a speech.
AISF general secretary Vishwajeet Kumar said that AISF has always stood for the autonomy and democratisation of the universities and would continue to do so. The AISF will fight out any oppression in the educational institutions, he added.
Kanhaiya Kumar, addressing the rally, said that the struggle was not only regarding him and a few other students who have been charged for sedition. The struggle was much broader. “We are trying to save democracy and freedom of expression.” He said that some people are trying to teach us ‘nationalism’ but they are creating communal disruption in the whole country. These people themselves never took part in the freedom movement.
Kanhaiya also criticised human resource minister Smriti Irani. He said she also is a mother and we all are her sons and daughters. So, why did she not meet the mother of Rohit Vemula or my mother? Smriti Irani thinks that by declaring me as an ‘anti-national’, my mother becomes anti-national. ABVP declares Rohit as ‘anti-national’, so for them, his mother is also anti-national.
Kanhaiya and other AISF leaders challenged the outdated colonial rules and laws of sedition, which were framed to falsely implicate the revolutionaries and freedom fighters in the socalled ‘anti-state’ activities to ‘overthrow’ the British rule and to declare them as the enemy of the state. The ‘Rajdroh’ of British times has today become ‘Deshdroh’!
The meeting was also addressed by national council secretary D Raja MP and general secretary of CPI(M) Sitaram Yechury.
Raja said the CPI was fighting to get Kanhaiya and others justice. He has done no wrong and was not involved in any slogan shouting and anti-national activities. He and others did not get opportunity to put up their own version before the enquiry committee of JNU.
In the meantime, there were some attempts to physically attack and abuse Kanhaiya, but these attempts were foiled promptly by the students and the police together.

https://www.facebook.com/mahesh.rathi.33/posts/10204220560312550

Friday, 18 March 2016

प्रारब्ध के धनी व विचारों से समृद्ध कन्हैया कुमार ------ विजय राजबली माथुर



****** कामरेड कन्हैया कुमार अब किसी परिचय के मोहताज नहीं हैं।****** 

 वह वैचारिक प्रचलित आधार पर खुद को 'नास्तिक ' कहते हैं , किन्तु स्वामी विवेकानंद के अनुसार 'नास्तिक' वह है जिसका खुद अपने ऊपर विश्वास न हो जबकि 'आस्तिक' वह है जिसका अपने ऊपर पूर्ण विश्वास हो ।  जो लोग खुद पर नहीं किसी अदृश्य पर विश्वास करते हैं वे नास्तिक अथवा ढ़ोंगी हैं। हम स्वामी विवेकानंद की परिभाषा के अनुसार कन्हैया को 'पूर्ण आस्तिक' कह सकते हैं। वह पूर्ण आध्यात्मिक भी हैं क्योंकि अध्यात्म का अर्थ है अध्यन + आत्मा अर्थात अपनी आत्मा का अध्यन ; कन्हैया ने प्रत्येक भाषण में खुद अपने अनुभवों की अभिव्यक्ति करने की बात कही है। स्पष्ट है वह अपना आत्मावलोकन करके ही वेदना व्यक्त कर रहे हैं।  जो लोग पाखंड और आडंबर को अध्यात्म बताते हैं वे भी वस्तुतः ढ़ोंगी ही हैं।

मानव जीवन को 'सुंदर, सुखद व समृद्ध' बनाने का मार्ग बताने वाला विज्ञान ही ज्योतिष है और इसका 'रेखा गणितीय' विश्लेषण 'हस्त रेखा विज्ञान' कहलाता है। जो लोग बाएँ हाथ को स्त्रियों  का व दायें को पुरुषों का बता कर विश्लेषण करते हैं वे पूर्णत :  सही विश्लेषण प्रस्तुत नहीं करते हैं। इसी प्रकार जो लोग बाएँ हाथ को बेरोजगारों व दायें हाथ को सरोजगारों के लिए निर्धारित करते हैं वे भी अपूर्ण निष्कर्ष तक ही पहुँचते हैं।

वस्तुतः स्त्री-पुरुष एवं रोजगार-बेरोजगार का विभेद किए बगैर बाएँ हाथ से किसी भी मनुष्य के  जन्मगत 'प्राब्ध'/भाग्य/LUCK का ज्ञान प्राप्त होता है और उसके दायें हाथ से व्यावहारिक तौर पर  कर्मगत उसने जो प्राप्त/अर्जित किया है उसका ज्ञान होता है। उपरोक्त चित्रों में कन्हैया का बायाँ हाथ जितना स्पष्ट है उतना ही दायाँ हाथ भी स्पष्ट है। उनकी भाग्य रेखा दोनों हाथों में मणिबन्ध से प्रारम्भ होकर शनि पर्वत तक स्पष्ट पहुँच रही है। उसकी एक शाखा की पहुँच गुरु पर्वत पर भी है। हस्तरेखा विज्ञान में ऐसी भाग्यरेखा 'सर्व-श्रेष्ठ' होती है। लाल बहादुर शास्त्री जी के हाथों में भी ऐसी ही भाग्यरेखा थी। ऐसी भाग्यरेखा के संबंध में डॉ नारायण दत्त श्रीमाली का निष्कर्ष है  :
" ऐसा व्यक्ति अपने देश की भलाई में अपने आप को न्योछावर कर देता है। यह व्यक्ति सबका प्रिय, स्वाभिमानी, दानी, सबकी सुनने वाला होता है। यह व्यक्ति उन्मुक्त सिंह की तरह अपने विचार धड़ल्ले के साथ व्यक्त करने वाला होता है। "

उनके प्रत्येक भाषण से डॉ श्रीमाँली के इस निष्कर्ष की स्पष्ट परिपुष्टि हो रही है। बड़ी बेबाकी के साथ उन्होने गाँव से लेकर समाज,राष्ट्र व विश्व की वृहद चर्चा की है और शक्तिशाली व बर्बर सरकार के उत्पीड़न की परवाह किए बगैर अपने विचारों को सुस्पष्ट तौर पर रखा है।

कन्हैया के दोनों हाथों में सभी ग्रहों के पर्वत उन्नत हैं अतः उनको पूर्ण फल प्राप्त होगा। मूल भाग्यरेखा के साथ-साथ चंद्र पर्वत से एक और सहायक भाग्यरेखा भी आ रही है अर्थात विवाहोपरांत उनका भाग्य और गति प्राप्त करेगा। उनकी हृदय रेखा स्पष्टतः गुरु पर्वत के नीचे पहुँच रही है जिसका फल उनकी इस सहृदयता में सबके सामने है कि, वह अपने आक्रांताओं के प्रति भी निर्मम नहीं उदार हैं।


https://www.facebook.com/ankitkumar.anant/posts/1055174251211812
हालांकि उन पर शारीरिक व मानसिक रूप से निष्ठुर प्रहार किए गए हैं उनको 'देशद्रोही' तक कह  कर उनके प्रति घृणा को प्रचारित किया गया है। परंतु उन्होने अपना संयम नहीं खोया है। स्वामी विवेकानंद का कहना है कि प्रारम्भ में जिस व्यक्ति या  पदार्थ का जितना तीव्र विरोध होता है कालांतर में वह व्यक्ति या पदार्थ उतना ही 'लोकप्रिय ' होता है। कन्हैया की लोकप्रियता का अंदाज़ 'जन संदेश टाईम्स ' में प्रकाशित इस समाचार से भी लग सकता है एवं निम्नांकित चित्रों से भी। ।
जन संदेश टाइम्स







15 मार्च के संसद मार्च व जनसभा  में भाकपा के राष्ट्रीय सचिव कामरेड डी राजा साहब व माकपा के राष्ट्रीय महासचिव कामरेड सीताराम येचूरी साहब की उपस्थिती कन्हैया की जनप्रियता के ही कारण थी। प्रख्यात लेखिका अरुंधति राय जी व अन्य महानुभाव उनके वैचारिक महत्व के कारण ही शामिल हुये हैं। 
उनके हाथों में मस्तिष्क रेखा स्पष्ट व गहरी है और चंद्र पर्वत की ओर ढलवां झुकी हुई है जो एक आदर्श रूप में उपस्थित है और इसी के कारण वह प्रत्येक बात को गहराई से अध्यन  करके सुस्पष्ट रूप में सार्वजनिक रूप से रखने में समर्थ रहते हैं। इसी कारण शक्तिशाली सर्वोच्च सत्ता से टकरा कर उनकी जनप्रियता उच्च सोपान को छू सकी है। 

उनकी गिरफ्तारी के समय की प्रश्न कुंडली प्राप्त करने पर ज्ञात होता है कि, उस समय नौ में से सात ग्रह उनके अनुकूल थे। केवल सूर्य तथा शनि ग्रह उनके प्रतिकूल थे। सूर्य की प्रतिकूलता के कारण उनका 'मान-भंग' हुआ जो उन पर 'देशद्रोह' का झूठा आरोप थोपा गया और शनि की प्रतिकूलता के कारण उनको कारागार की यात्रा करनी पड़ी। जैसा की न्यूज़ लाउंड्री को दिये साक्षात्कार में उन्होने बताया भी है कि 'जांच में सहयोग' करने के नाम पर धोखे में रख कर उनको गिरफ्तार किया गया यह भी शनि का ही प्रकोप रहा है। शुक्र व बुध ग्रहों के शक्तिशाली होने के कारण उनका बुद्धि,ज्ञान,विवेक संतुलित रहा एवं उनको कानूविदों का भी सहयोग प्राप्त हुआ जिससे वह अन्तरिम रूप से ही सही रिहा हो सके। शनि के स्त्रीकारक ग्रह होने के कारण जहां उनकी गिरफ्तारी में महिला मंत्री का हाथ रहा वहीं रिहाई में भी महिला न्यायाधीश का हाथ रहा है। स्त्रीकारक ग्रह शुक्र  के सर्वाधिक शक्तिशाली होने व माँ के भाव में होने के कारण सर्वप्रथम उनको अपनी माता जी का पूर्ण आशीर्वाद मिला है। उनकी अनुपस्थिति में महिला उपाध्यक्ष ने ही कुशलतापूर्वक उनके कार्यों का निष्पादन व आंदोलन का संचालन किया है। गुरु,राहू और केतू ग्रह भी उनको सुख दिलाने व हमलों से बचाने में समर्थ रहे हैं बल्कि यदि कहें कि सरकार का दांव सरकार को ही उल्टा पड़ने में इन सब ग्रहों की प्रमुख भूमिका रही है तो गलत न होगा । 
सिर्फ यह कह देने से कि हम नहीं मानते ग्रहों के प्रभाव से अछूता नहीं रहा जा सकता है। कन्हैया का इस समय जनता पर अनुकूल प्रभाव है और यदि वह जनता को सामाजिक रूप से जागरूक करने को कहें कि सरकार और उसके समर्थक अधार्मिक तत्व हैं जबकि वह जनता के धर्म की रक्षा का युद्ध लड़ रहे हैं। वस्तुतः 'धर्म' शब्द की व्युत्पति 'धृति' धातु से हुई है जिसका अर्थ है धारण करना। अर्थात मानव शरीर व समाज को धारण करने हेतु आवश्यक तत्व ही 'धर्म' हैं , यथा-
सत्य,अहिंसा (मनसा-वाचा-कर्मणा),अस्तेय,अपरिग्रह और ब्रह्मचर्य। इनका पालन ही धर्म है बाकी सब ढोंग-पाखंड-आडंबर है। 
यही उपयुक्त समय है जब जनता को समझाया जा सकता है कि, 'कृणवनतो विश्वमार्यम ' अर्थात सम्पूर्ण विश्व को श्रेष्ठ बनाने वाला समष्टिवाद ही आज का साम्यवाद है जो विश्व के  मेहनतकशों  को एकजुट करने की बात उठाता है और उसका विरोध करने वाले ही वस्तुतः देशद्रोही हैं। 
हमारी शुभकामनायें  सदैव  कामरेड कन्हैया कुमार के साथ हैं। 

Thursday, 17 March 2016

was the BJP trying to divide the jawans from the students fighting for equality and justice ------ Julio Ribeiro

***कन्हैया को बदनाम करने की साजिश साम्यवाद पर प्रहार करने को थी किन्तु दांव उल्टा पड़ गया है***

The PDP which is in the coalition partner with the BJP in J&K, has been very tolerant, indeed very kind, to these separatist elements as part of its strategy to coax them into the mainstream. Many who raised Khalistan slogans in Punjab in the eighties have sneaked back into Punjab’s social and political life. Separatists in the North-east are still active. The BJP is not averse to form an electoral alliance with the Bodo Liberation Front which once upon a time made separatist demands. In the Red Corridor which passes through Bihar, Orissa, Chhattisgarh and Andhra vast tracts of Indian territory are now administered by Maoists who do not allow government functionaries to even enter! Mere slogan shouting is not going to dismember this country. We have met bigger tests of sedition and come out triumphant. Punjab is the biggest single example of national determination and courage to oppose such elements. I am proud of having participated in that determination. I would never have agreed, to take up cudgels against a bunch of idealistic students just to humour the party in power! .............. was the BJP trying to divide the jawans, who everyone admires, from the students who are fighting for equality and justice for all dispossessed segments of society?






To myself I pose a question: “If you were still serving and the Prime Minister calls you and asks you to take on the anti-national elements who shout anti-India slogans in the JNU would you oblige? After all, you obliged a previous Prime Minister by agreeing to lead the Punjab Police in anti-terrorism operations, so why not take on these student anti-nationals?”
My answer – you have guessed it! “Sir”, I would reply, there will be countless takers for the job of Delhi’s Police Chief unlike in 1986 when senior IPS officers were not willing to face mindless violence! No officer we asked was inclined to risk his life and that of his family members to engage AK-47 wielding assassins. But slogan shouting students are easy meat specially with the arcane law of sedition that so conveniently still exists in our statute books!”
When Rajiv Gandhi decided to overturn the judicial verdict in the Shah Banoo case I was the Special Secretary in the Government of India’s Home Ministry. I remember the chill that descended in the Ministry’s corridors with officers criticising the decision, albeit in whispers.

The reversal of the Shah Banoo ruling through the legislative route did not ultimately achieve the Congress Party’s objective of appeasing the clerics and securing the Muslim votes. The Mullahs only become more strident in their unreasonable demands. But the concessions they wanted was not for the educational and economic advancement of the community. They centered around obscurantist religious issues that kept Muslims even more backward though their clergy succeeded in tightening their hold on the believers thereby. The Shah Banoo decision shocked the conscience of all liberal minded Indians. The Hindu right, of course, gained enormously. It gave a boost to the Ram Janmabhoomi movement. It was the single largest contribution to the turn in good fortune of the BJP and the decline of the Congress. I have a hunch that the BJP’s miscalculation in the JNU’s student politics will have a similar effect on their fortunes as the Shah Banoo case had on the Congress. It may not be as devastating, but it certainly has brought together all left-of-centre parties on a common platform. How long this bon-homie and camaraderie will last only time will tell. But at present an opportunity to debunk an ideology that threatens to divide this country has been presented to the opposition on a platter. In my interaction with my friends both on the Right and on the Left of the political divide I discern two distinct refrains. The rightists harp on the anti-national slogans raised on 9th February on the JNU campus and emphatically condemn such secessionary tendencies. They are convinced that slogans demanding the balkanization of the country and proclaiming Afzal Guru as a martyr are the beginning of the end. The leftists and assorted liberals, dubbed “pseudo-secularists” by the Hindu right and now given the new epithet “anti-national”, swear loudly by the right of free speech as enshrined in the Constitution but, at the same time, concede that such slogans are distasteful, even condemnable. I am not on the subject of which view is right or wrong. Many more erudite thinkers and opinion makers have written extensively on either side of the divide. I grieve that the identity of those who raised the slogans has not attracted as much attention of the police as their anxiety to please their political masters, by focusing on the JNU students’ Union office-bearers who the BJP’s student wing, the ABVP, want to displace. Even worse, no investigations have begun to find out who doctored the video tapes that were produced as proof of ‘sedition! To my mind Smriti Irani’s intent is very clear. Wherever she has meddled, in the FTTI, the IITs, the IIMs, the Hyderabad University and now the JNU, she wants to use government’s powers and its machinery, including the police, to get rid of all leftist ideology and supplant it with the Hindutva form of nationalism. Her intent can be called legitimate but the method adopted totally misconceived and unacceptable. If the ABVP wants to propagate its ideology in the campus they should use ideas, words, eloquence and example instead of making bee-lines to political mentors and through them to Smriti who obliges without sparing any thought to the consequences. Her foray into the JNU is bound to prove costly. It has already thrown up a potential leader whose ability to sway listeners and float credible arguments to prove his points equals those of Narendra Modi – even surpass him in the use of humour and sarcasm to garner support. For instance, the attempt by the BJP, to appeal to popular sentiment by invoking the sacrifice of our jawans in Siachen had gained ground with people till Kanhaiya countered by pointing out that the jawans hail from the poorer sections of the population, that they are sons of farmers who are committing suicide by the hundreds, that his own father was a landless agricultural labourer and his own brother a soldier. Why, then, was the BJP trying to divide the jawans, who everyone admires, from the students who are fighting for equality and justice for all dispossessed segments of society? His arguments cut much ice with thinking people. Those who shouted separatist slogans on 9 February in the JNU campus are most likely Kashmiri Muslims. They have been chanting such slogans every day in the Valley for years. The PDP which is in the coalition partner with the BJP in J&K, has been very tolerant, indeed very kind, to these separatist elements as part of its strategy to coax them into the mainstream. Many who raised Khalistan slogans in Punjab in the eighties have sneaked back into Punjab’s social and political life. Separatists in the North-east are still active. The BJP is not averse to form an electoral alliance with the Bodo Liberation Front which once upon a time made separatist demands. In the Red Corridor which passes through Bihar, Orissa, Chhattisgarh and Andhra vast tracts of Indian territory are now administered by Maoists who do not allow government functionaries to even enter! Mere slogan shouting is not going to dismember this country. We have met bigger tests of sedition and come out triumphant. Punjab is the biggest single example of national determination and courage to oppose such elements. I am proud of having participated in that determination. I would never have agreed, to take up cudgels against a bunch of idealistic students just to humour the party in power!


http://indianexpress.com/article/blogs/kanhaiya-kumar-jnu-row-bjp-congress-shah-banoo/

Tuesday, 15 March 2016

जेएनयू नहीं, लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई ----- कन्हैया

126 ***** जेएनयू के छात्रों ने देश विरोधी नारे लगाने के आरोप में बंद उमर और अनिर्बान की रिहाई के लिए मंडी हाउस पर मार्च किया। इसी दौरान तीन लोग कन्हैया कुमार के मंच पर बढ़े और पुलिस ने तीनों को हिरासत में ले लिया।*****मंडी हाउस से संसद तक आयोजित इस मार्च को पुलिस ने संसद मार्ग थाने से आगे नहीं जाने दिया।
पीपल्स मार्च में आए लोगों को यहीं पर कन्हैया ने संबोधित किया। संबोधन के दौरान कन्हैया पर तीन बार हमला करने की कोशिश की गई।***** 




जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय (जेएनयू) छात्र संघ अध्यक्ष कन्हैया कुमार पर मंगलवार को चार युवकों ने हमला करने की कोशिश की, जिसे वहां खड़े दिल्ली पुलिस के जवानों ने नाकाम कर दिया। पुलिस तुरंत ही उन युवक को काबू में करके संसद मार्ग थाने में ले गई। जब यह घटना घटित उस समय कन्हैया पीपल्स मार्च में आए लोगों को संबोधित कर रहे थे।

देशद्रोह के आरोप में गिरफ्तार किए गए जेएनयू के छात्र उमर खालिद और अनिर्बान भट्टाचार्य की रिहाई के लिए जेएनयू छात्र संघ के बैनर तले एक पीपल्स मार्च का आयोजन किया गया था। मंडी हाउस से संसद तक आयोजित इस मार्च को पुलिस ने संसद मार्ग थाने से आगे नहीं जाने दिया।

पीपल्स मार्च में आए लोगों को यहीं पर कन्हैया ने संबोधित किया। संबोधन के दौरान कन्हैया पर तीन बार हमला करने की कोशिश की गई। पुलिस के चौकन्ने जवानों ने सभी हमलों को नाकाम कर दिया और हमला करने की कोशिश करने वाले चार युवकों को थाने ले गई।

इन हमलों के बारे में कन्हैया ने कहा कि अगर मेरे ऊपर हमला करने से किसी का भला होता है तो मैं उसके लिए भी तैयार हूं। जो मेरे ऊपर हमला करना चाहते हैं, दरअसल वह मोदी सरकार के बचे तीन सालों में सेट होना चाहते हैं। यदि मेरी वजह से किसी को नौकरी मिल जाए तो भला इससे अच्छा क्या हो सकता है। क्योंकि मोदी जी तो किसी को नौकरी नहीं दे पा रहे हैं।

जेएनयू नहीं, लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई
पीपल्स मार्च को संबोधित करते हुए कन्हैया ने कहा कि यह मार्च सिर्फ जेएनयू बचाने के लिए नहीं बल्कि लोकतंत्र बचाने के लिए निकाला गया है। उन्होंने कहा कि तमाम तरह की साजिश की जा रही हैं। कहते हैं कि जेएनयू खतरनाक जगह है। जेएनयू खतरनाक जगह है क्योंकि वहां सरकार की जनविरोधी नितियों के खिलाफ आवाज उठाई जाती है। देश के विश्वविद्यालय जहां लोग ज्ञान प्राप्त करते हैं। वहां ज्ञान होता है जो लोकतंत्र को लेकर हो, जो संविधान को लेकर हो। यह सरकार उसी से ध्यान भटकाना चाहती है। लोकतंत्र को बचाने की लड़ाई में हमें आगे बढ़ते रहना होगा।

लेखिका अरुंधति राय भी पहुंची
मशहूर लेखिका अरुंधति राय भी पीपल्स मार्च में अपना समर्थन देने के लिए संसद मार्ग थाने पहुंची थीं। उन्होंने कहा कि यह 'नफरत करने वालों' और 'सोचने वालों' के बीच की लड़ाई है। उन्होंने कहा कि जिन्हें वे देशद्रोही कहते हैं, वे भूमि, नदी और जंगलों से प्यार करते हैं।

Published:15-03-2016 07:44:31 PMLast Updated:15-03-2016 08:44:45 PM
   
http://www.livehindustan.com/news/ncr/article1-jnu-mandi-house-protest-three-people-tried-to-threaten-kanhaiyakumar-arrested-520948.html



https://www.youtube.com/watch?v=w8S6rTyz2hA&feature=youtu.be



 **************************************************************************
फेसबुक कमेंट्स : 

कन्हैया की अलोकतांत्रिक गिरफ्तारी संविधान व जनतंत्र पर हमला है

Published on Mar 9, 2016
Abhinandan Sekhri talks to Kanhaiya Kumar about sedition, being attacked inside Patiala House, whether he’ll join politics,​ and more.




***  इस साक्षात्कार में अभिनंदंन सीखरी साहब ने उन रहस्यों को भी उद्घाटित करा लिया है जिनकी ओर अन्य साक्षात्कार कर्ताओं का ध्यान नहीं गया था अथवा उन्होने उनको महत्वपूर्ण नहीं माना था। 

इससे ज्ञात होता है कि, 11 फरवरी की अर्द्ध रात्रि को लगभग 12 बजे के बाद जब जेएनयूएसयू अध्यक्ष कन्हैया कुमार कुछ साथियों के साथ चाय पीने के लिए हास्टल के अपने कमरे से बाहर आए तब सादी  वर्दी में तैनात पुलिस कर्मियों ने जिनको कन्हैया पहचानते थे उनको जांच में सहयोग के नाम पर अपने साथ ले लिया और सिविल कार से संभवतः LIU आफिस जिसे कन्हैया नहीं जानते थे ले गए तथा वरदीधारी पुलिस के हवाले कर दिया। LIU कर्मियों ने कन्हैया का फोन पहले ही अपने कब्जे में कर लिया था। वारंट मांगने पर बाद में देने को कहा जो फिर दिया नहीं। इसके बाद का घटनाक्रम अब जग-ज़ाहिर है कि, तीन चेनल्स के मिलावटी वीडियोज़ प्रसारण को आधार बना कर उन पर 'देशद्रोही' का ठप्पा चस्पा कराया गया और वकीलों के नाम पर राजनीतिक कार्यकर्ताओं द्वारा उन पर कोर्ट में ही  जानलेवा हमला कराया गया जिसमें दिल्ली पुलिस मूक दर्शक बनी रही। अब उनकी जीभ काटने,गर्दन काटने व गोली से उड़ा देने की धमकियाँ दी जा रही हैं। गोयबल्स चेनल उनके विरुद्ध घृणित अभियान ज़ोर-शोर से चला रहा है जिसके परिणाम स्वरूप उन पर JNU परिसर में भी जानलेवा हमला हुआ। मुजफ्फरपुर में उनके समर्थन में हो रही सभा पर ही पत्थर-लाठियों से हमला किया गया। कानून व संविधान का खुला उल्लंघन किया जा रहा है। 

कन्हैया समस्त लोकतन्त्र रक्षकों की एकता चाहते हैं जो वक्त की बेहद ज़रूरत है। इसी हेतु उनका आज संसद पर मार्च हो रहा है जिसे 'देशभक्त' और 'लोकतान्त्रिक' शक्तियों का समर्थन मजबूती से मिलना चाहिए। ***

Saturday, 12 March 2016

किसानसभा का 29वां राष्ट्रीय सम्मेलन हैदराबाद में सम्पन्न

अखिल भारतीय किसान सभा के  29 वें राष्ट्रीय सम्मेलन का आयोजन कामरेड सी के चंद्रपन हाल, TSRTC कला भवन,हैदराबाद में 3-6 मार्च तक  सम्पन्न हो गया  है। अखिल भारतीय किसान सभा के राष्ट्रीय  महासचिव अतुल कुमार अनजान नारा लगाते हुए :






स्वतन्त्र्ता संग्राम सेनानी से Ch. Kamalamma जी का महिलदिवस पर सम्मान

https://www.facebook.com/photo.php?fbid=10201427658729249&set=a.1327523484003.36705.1708438255&type=3

अंतर्राष्ट्रीय महिला दिवस के अवसर पर हिमायतनगर,हैदराबाद में राज्य काउंसिल, भाकपा तेलंगाना की ओर तेलंगाना सशस्त्र संघर्ष तथा स्वतन्त्र्ता संग्राम सेनानी से Ch. Kamalamma जी को राष्ट्रीय सचिव गण  कामरेड अतुल कुमार अंजान एवं डॉ के नारायना, अमरजीत कौर व तेलंगाना के राज्यसचिव Chada Venkat Reddy द्वारा सम्मानित किया गया। हार्दिक शुभकामनायें। 

राष्ट्रवाद देशभक्ति का गला दबाने की स्थिति में ------ विजय शंकर चतुर्वेदी, वरिष्ठ पत्रकार


स्वामी विवेकानंद ने कहा था- जब तक लाखों लोग भूखे और अशिक्षित हैं तब तक मैं उस प्रत्येक व्यक्ति को गद्दार मानता हूं जो उनके बल पर शिक्षित हुआ और अब वह उनकी ओर ध्यान नहीं देता.


I Support Kanhaiya
·

पहले देशभक्ति और राष्ट्रवाद में फर्क़ तो समझ लीजिए!

By: विजय शंकर चतुर्वेदी, वरिष्ठ पत्रकार | Last Updated:Friday, 11 March 2016 9:28 PM



गुरुवार 10 मार्च, 2016 की शाम जवाहरलाल नेहरू विश्वविद्यालय छात्रसंघ (जेएनयूएसयू) के अध्यक्ष कन्हैया कुमार की कैम्पस में ही घुसकर ज़ुबान ख़ामोश करने की कोशिश की गई. थप्पड़ मारने का प्रयास करने वाले शख़्स विकास चौधरी का कहना था कि वह कन्हैया को सबक़ सिखाना चाहता था. इससे पहले कथित पूर्वांचल सेना के अध्यक्ष आदर्श शर्मा ने कन्हैया की जान लेने के लिए 11 लाख का ईनाम घोषित किया था. उससे भी पहले भारतीय जनता युवा मोर्चा के नौनिहाल कुलदीप वार्ष्णेय कन्हैया की ज़बान काटने वाले को 5 लाख का ईनाम घोषित कर चुके हैं. उससे पहले के पहले कुछ युवा वकीलों ने अदालत परिसर में कन्हैया को पीटने का तमग़ा अपनी छाती में जड़ा था.

गौर करने की बात यह है कि ये सभी कथित देशभक्त युवा हैं और कन्हैया को पहले से ही देशद्रोही मानकर उसे सबक़ सिखाना चाहते हैं जबकि दिल्ली हाईकोर्ट ने उसे जमानत पर रिहा कर रखा है. उन्हें देश की न्याय व्यवस्था पर रंचमात्र यकीन नहीं है जबकि कन्हैया ने हज़ारहा कहा है कि वह इस महान देश के संविधान और न्यायपालिका पर पूरी आस्था रखता है. भारत विरोधी नारे लगाने से साफ इंकार करने के बाद उसने इतना ज़रूर कहा था कि वह प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और उनकी सरकार की समाज को बांटने वाली नीतियों का विरोध करता है. क्या आज इस देश में सरकार का विरोध करना इतना बड़ा गुनाह हो गया है कि लोगों को देशद्रोही करार दे दिया जाए!

आख़िर कन्हैया इन सबका दुश्मन कैसे बन गया? जबकि इसी देश में करोड़ों लोग ऐसे हैं जो उसे अपनी आंखों का तारा मानने लगे हैं. वजह यह है कि जमानत पर रिहा होने के बाद कन्हैया ने कैम्पस में जो भाषण दिया वह करोड़ों दिलों की आवाज़ थी. यह आवाज़ जिन लोगों को पसंद नहीं आई वे कौन लोग हैं? क्या ये वही लोग नहीं हैं जो एक षड़यंत्रकारी योजना के तहत इस देश की ‘अनेकता में एकता’ पसंद करने वाली जनता को कई दशकों से मोनोलिथ बनाना चाहते हैं? क्या ये हमलावर लोग देशभक्त हैं? कतई नहीं, ये राष्ट्रवादी हैं. देशभक्त होने तथा राष्ट्रवादी होने में फर्क़ होता है. क्या है ये फर्क़, ज़रा महापुरुषों की ज़बानी सुन लीजिए:

अल्बर्ट आइंस्टाइन ने कहा था- राष्ट्रवाद एक बचकाना बीमारी है, यह मानव जाति का चेचक है.

देशभक्ति और राष्ट्रवाद के उपर्युक्त उद्धरणों से तो यह शीशे की तरह साफ हो जाता है कि देशभक्त कौन है और राष्ट्रवादी कौन. यह भी स्पष्ट हो जाता है कि कन्हैया को मारने की कोशिश करने वाले और उनके पीछे की शक्तियां राष्ट्रवादी हैं. ऐसे में सवाल यह उठता है कि राष्ट्रवाद को भारत जैसी विविधता वाले देश में प्रश्रय क्यों मिलना चाहिए? हर देशवासी को देशभक्ति की जगह राष्ट्रवाद की घुट्टी क्यों पिलाई जानी चाहिए?

सच्चाई यह है कि राष्ट्रवाद इस देश के सभी नागरिकों को देशभक्त नहीं मानता. वह अपनी विचारधारा से असहमति जताने वाले को देशद्रोही का प्रमाणपत्र जारी कर देता है. यहां तक कि उसकी जान लेने की कोशिश करता है और कई बार कामयाब भी हो जाता है. वह युवकों का ब्रेनवॉश करके अपनी विचारधारा का उन्माद भरता है और उनसे देशविरोधी गतिविधियां करवाता है. राष्ट्रवाद देशवासियों की भूख और शिक्षा पर ध्यान न देकर शिक्षा के केंद्रों को ही निशाना बनाता है जबकि देशभक्ति खेतों और सीमा पर संघर्ष करती है.

स्वामी विवेकानंद ने कहा था- जब तक लाखों लोग भूखे और अशिक्षित हैं तब तक मैं उस प्रत्येक व्यक्ति को गद्दार मानता हूं जो उनके बल पर शिक्षित हुआ और अब वह उनकी ओर ध्यान नहीं देता.

राष्ट्रवाद भी इसकी तरफ ध्यान नहीं देता बल्कि वह इस पर ध्यान देता है कि भूख और अशिक्षा के ख़िलाफ जो आवाज़ उठे उसे हर तरह के ‘छल-छद्म’ से ख़ामोश करा दो. गुरुदेव रवींद्रनाथ ठाकुर भी इस राष्ट्रवाद के खिलाफ़ थे. वह भारत ही नहीं जापान और अमेरिका के राष्ट्रवाद के भी खिलाफ़ थे. सन 1916-17 के दौरान जब वह अमेरिका प्रवास पर थे तो उन्होंने चेतावनी दी थी कि राष्ट्रवाद एक बहुत बड़ा ख़तरा है. उनका कहना था कि भारत इतना विशाल और वैविध्यपूर्ण देश है कि मानो अनेक देश एक भौगोलिक इकाई में समा गए हों. उनका यह भी मानना था कि राष्ट्रवाद भारत में कई समस्याओं की जड़ है.

आज स्थिति यह है कि राष्ट्रवाद देशभक्ति का गला दबाने की स्थिति में पहुंच गया है. राष्ट्रवाद का स्वरूप यह है कि वह एक राजनैतिक सिद्धांत है. इसे स्वीकार करने पर किसी पार्टी विशेष का सदस्य बनना पड़ता है जबकि देशभक्त व्यक्ति को किसी भी प्रकार की सदस्यता नहीं लेनी पड़ती. उसका नागरिक होना ही पर्याप्त है. राष्ट्रवाद को चिल्ला-चिल्ला कर सबको बताना पड़ता है कि वह राष्ट्र से प्रेम करता है जबकि देशभक्त को इसकी ज़रूरत नहीं पड़ती. देश का मजदूर, किसान, व्यापारी, नौकरीपेशा यानी कोई भी देशभक्त हो सकता है जबकि राष्ट्रवाद इस सिद्धांत को नहीं मानता.

देशभक्ति अपने आप बढ़ने वाली भावना है उसे खुद को बढ़ाने के लिए कसरत नहीं करनी पड़ती. एक भिखारी भी देशभक्त हो सकता है लेकिन राष्ट्रवाद का ग़रीबों से आंतरिक विरोध होता है. अपनी शक्ति बढ़ाने के लिए पूंजीवादी और राष्ट्रवादी हरदम चोर-चोर मौसेरे भाई बनने को तैयार रहते हैं. किसी गरीब से पूछिए कि वह राष्ट्रवादी है या देशभक्त, तो छूटते ही वह खुद को देशभक्त बताएगा क्योंकि राष्ट्रवाद के बारे में वह कुछ नहीं जानता. राष्ट्रवाद पढ़ाना पड़ता है, इसके लिए स्कूल होते हैं जबकि देशभक्ति के लिए किसी स्कूल की ज़रूरत नहीं होती. भारत में पैदा हुआ हर नागरिक देशभक्त होता है, देशद्रोही या छद्म होने का तमग़ा उसे राष्ट्रवाद देता है.

आजकल देश में यही कवायद चल रही है. कन्हैया कुमार तो एक प्रतीक है. कन्हैया के बहाने देशभक्तों को डराया-धमकाया जा रहा है. उसने देश में रहकर देश से आज़ादी मांगी, अन्याय-शोषण व आर्थिक विषमता से आज़ादी मांगी तो वह देशद्रोही हो गया और विजय माल्या को राष्ट्रवादी लोगों ने देशवासियों का पैसा बोरों में भरकर फुर्र हो जाने दिया तो वे देशप्रेमी हो गए! इस पर भी राष्ट्रवादी यही कहेगा कि कुछ भी होता रहे उसके देश में सब ठीक चल रहा है क्योंकि इस वक़्त देश में उसकी सरकार है. दरअसल राष्ट्रवाद एक धर्म है जो विद्वेष, हिंसा, तिरस्कार, हिंसा, आक्रामकता और शत्रुता की बुनियाद पर खड़ा होता है; इसलिए उसका मंत्र होता है- ‘राष्ट्रवादी हिंसा हिंसा न भवति’.

https://www.facebook.com/isupportkanhaiya/photos/a.2005793673045125.1073741828.2005716053052887/2015837238707435/?type=3&permPage=1